गुरुवार, 6 फ़रवरी 2020

👉 सम्मान

एक  वृद्ध माँ रात को 11:30 बजे रसोई में बर्तन साफ कर रही है, घर में दो बहुएँ हैं, जो बर्तनों की आवाज से परेशान होकर अपने पतियों को सास को उल्हाना देने को कहती हैं

वो कहती है आपकी माँ को मना करो इतनी रात को बर्तन धोने के लिये हमारी नींद खराब होती है साथ ही सुबह 4 बजे उठकर फिर खट्टर पट्टर शुरू कर देती है सुबह 5 बजे पूजा

आरती करके हमे सोने नही देती ना रात को ना ही सुबह जाओ सोच क्या रहे हो जाकर माँ को मना करो

बड़ा बेटा खड़ा होता है और रसोई की तरफ जाता है रास्ते मे छोटे भाई के कमरे में से भी वो ही बाते सुनाई पड़ती जो उसके कमरे हो रही थी वो छोटे भाई के कमरे को खटखटा देता है छोटा भाई बाहर आता है।

दोनो भाई रसोई में जाते हैं, और माँ को बर्तन साफ करने में मदद करने लगते है, माँ मना करती पर वो नही मानते, बर्तन साफ हो जाने के बाद दोनों भाई माँ को बड़े प्यार से उसके कमरे में ले जाते है, तो देखते हैं पिताजी भी जागे हुए हैं

दोनो भाई माँ को बिस्तर पर बैठा कर कहते हैं, माँ सुबह जल्दी उठा देना, हमें भी पूजा करनी है, और सुबह पिताजी के साथ योगा भी करेंगे

माँ बोली ठीक है बच्चों, दोनो बेटे सुबह जल्दी उठने लगे, रात को 9:30 पर ही बर्तन मांजने लगे, तो पत्नियां बोलीं माता जी करती तो हैं आप क्यों कर रहे हो बर्तन साफ, तो बेटे बोले हम लोगो की शादी करने के पीछे एक कारण यह भी था कि माँ की सहायता हो जायेगी पर तुम लोग ये कार्य नही कर रही हो कोई बात नही हम अपनी माँ की सहायता कर देते है

हमारी तो माँ है इसमें क्या बुराई है, अगले तीन दिनों में घर मे पूरा बदलाव आ गया बहुएँ जल्दी बर्तन इसलिये साफ करने लगी की नही तो उनके पति  बर्तन साफ करने लगेंगे साथ ही सुबह भी वो भी पतियों के साथ ही उठने लगी और पूजा आरती में शामिल होने लगी

कुछ दिनों में पूरे घर के वातावरण में पूरा बदलाव आ गया बहुएँ सास ससुर को पूरा सम्मान देने लगी ।

कहानी का सार।
माँ का सम्मान तब कम नही होता जब बहुवे उनका सम्मान नही करती, माँ का सम्मान तब कम होता है जब बेटे माँ का सम्मान नही करे या माँ के कार्य मे सहयोग ना करे ।

जन्म का रिश्ता हैं।
माता पिता पहले आपके हैं।  

10 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

Mother is next God.Don't ignore.
If you pay the repect you are not
Obliged to your mother.You are oblige
Yourself.

Unknown ने कहा…

Bahut prerna dene wali katha hai.

Unknown ने कहा…

SundarJiban vinay kay Liya manus kya karna chua

Het Ram Sharma ने कहा…

Very inspiring. Zarurat hai apne bete betiyon ko bachpan se hi ye kaam karwane sikhana aur sanskar dalne ke.

Het Ram Sharma ने कहा…

Very inspiring. Zarurat hai apne bete betiyon ko bachpan se hi ye kaam karwane sikhana aur sanskar dalne ke.

rishi sharma ने कहा…

dil ko choo lene wali baat...

नरेश बाठला ने कहा…

शिक्षाप्रद कहानी । मां व पत्नी के बीच की कड़ी है बेटा/पति
और वो चाहे तो सब बदलाव कर सकता है ।

Star World with Vipul__ ने कहा…

बहुत ही अच्छा ओर सराहनीय

Star World with Vipul__ ने कहा…

बहुत ही अच्छा ओर सराहनीय

Unknown ने कहा…

अतिप्रेरणादायक वास्तविक व समसामयिक कहानी है अपने कार्य व्यवहार,आचरण से ही आज के पारिवारिक परिवेश को बदलना सम्भव है|
कपिल देव शर्मा सुलतानपुर

👉 जीवन लक्ष्य और उसकी प्राप्ति भाग ३

👉 *जीवन का लक्ष्य भी निर्धारित करें * 🔹 जीवन-यापन और जीवन-लक्ष्य दो भिन्न बातें हैं। प्रायः सामान्य लोगों का लक्ष्य जीवन यापन ही रहता है। ...