शनिवार, 27 नवंबर 2021

👉 परमात्मा की समीपता

परमात्मा के जितने ही समीप हम पहुँचते हैं उतनी ही श्रेष्ठताएँ हमारे अन्तःकरण में उपजती तथा बढ़ती हैं। उसी अनुपात से आन्तरिक शान्ति की भी उपलब्धि होती चलती है।
हिमालय की ठण्डी हवाएँ उन लोगों को अधिक शीतलता प्रदान करती हैं जो उस क्षेत्र में रहते हैं। इसी प्रकार आग की भट्टियों के समीप काम करने वालों को गर्मी अधिक अनुभव होती है। जीव ज्यों-ज्यों परमात्मा के निकट पहुँचता जाता है, त्यों-त्यों उसे उन विभूतियों का अपने में अनुभव होने लगता है जो उस परम प्रभु में ओत प्रोत हैं।
उपासना का अर्थ है—पास बैठना। परमात्मा के पास बैठने से ही ईश्वर उपासना हो सकती है। साधारण वस्तुएँ तथा प्राणी अपनी विशेषताओं की छाप दूसरों पर छोड़ते हैं तो परमात्मा के समीप बैठने वालों पर उन दैवी विशेषताओं का प्रभाव क्यों न पड़ेगा?

पुष्प वाटिका में जाते ही फूलों की सुगन्ध से चित्त प्रसन्न होता है। चन्दन के वृक्ष अपने समीपवर्ती वृक्षों को सुगन्धित बनाते हैं। सज्जनों के सत्संग से साधारण व्यक्तियों की मनोभावनाएँ सुधरती हैं, फिर परमात्मा अपनी महत्ता की छाप उन लोगों पर क्यों न छोड़ेगा जो उसकी समीपता के लिए प्रयत्नशील रहते हैं।

✍🏻 पं श्रीराम शर्मा आचार्य

गुरुवार, 25 नवंबर 2021

👉 भावी सम्भावनायें और हमारा कर्त्तव्य

अगले दिन बहुत ही उलट-पुलट से भरे हैं। उनमें ऐसी घटनायें घटेंगी ऐसे परिवर्तन होंगे जो हमें विचित्र भयावह एवं कष्टकर भले ही लगें पर नये संसार की अभिनव रचना के लिए आवश्यक हैं। हमें इस भविष्यता का स्वागत करने के लिए-उसके अनुरूप ढलने के लिए-तैयार होना चाहिये। यह तैयारी जितनी अधिक रहे उतना ही भावी कठिन समय अपने लिये सरल सिद्ध होगा।

भावी नर संहार में आसुरी प्रवृत्ति के लोगों को अधिक पिसना पड़ेगा। क्योंकि महाकाल का कुठाराघात सीधा उन्हीं पर होना है। “परित्राणाय साधूनाँ विनाशायश्च दुष्कृताम्” की प्रतिज्ञानुसार भगवान को युग-परिवर्तन के अवसर पर दुष्कृतों का ही संहार करना पड़ता है। हमें दुष्ट दुष्कृतियों की मरणासन्न कौरवी सेना में नहीं, धर्म-राज की धर्म संस्थापना सेना में सम्मिलित रहना चाहिये। अपनी स्वार्थपरता, तृष्णा और वासना को तीव्र गति से घटाना चाहिए और उस रीति-नीति को अपनाना चाहिये जो विवेकशील परमार्थी एवं उदारचेता सज्जनों को अपनानी चाहिये।

संकीर्णताओं और रूढ़ियों की अन्य कोठरी से हमें बाहर निकलना चाहिए। अगले दिनों विश्व-संस्कृति, विश्व-धर्म, विश्व-भाषा, विश्व-राष्ट्र का जो भावी मानव समाज बनेगा उसमें अपनी-अपनी महिमा गाने वालों और अपनी ढपली अपना राग गाने वालों के लिये कोई स्थान न रहेगा। पृथकतावादी सभी दीवारें टूट जायेंगी और समस्त मानव समाज को न्याय एवं समता के आधार पर एक परिवार का सदस्य बन कर रहना होगा। जाति लिंग या सम्पन्नता के आधार पर किसी को वर्चस्व नहीं मिलेगा। इस समता के अनुरूप हमें अभी से ढलना आरम्भ कर देना चाहिये।

धन-संचय और अभिवर्धन की मूर्खता हमें छोड़ देना ही उचित है, बेटे पोतों के लिए लम्बे चौड़े उत्तराधिकार छोड़ने की उपहासास्पद प्रवृत्ति को तिलाँजलि देनी चाहिये क्योंकि अगले दिनों धन का स्वामित्व व्यक्ति के हाथ से निकल कर समाज, सरकार के हाथ चला जायगा। केवल शिक्षा, स्वास्थ्य, संस्कार एवं सद्गुणों की सम्पत्ति ही उत्तराधिकार में दे सकने योग्य रह जायगी। इसलिए जिनके पास आर्थिक सुविधायें हैं वे उन्हें लोकोपयोगी कार्यों में समय रहते खर्च करदें ताकि उन्हें यश एवं आत्म-संतोष का लाभ मिल सके। अन्यथा वह संकीर्णता मधुमक्खी के छत्ते पर पड़ी डकैती की तरह उनके लिये बहुत ही कष्ट-कारक सिद्ध होगी।

लंका विजय में श्री राम के साथी रीछ-वानरों की तरह गिद्ध और गिलहरी की भाँति हमें युग-निर्माण योजना के महान अभियान में तत्परतापूर्वक संलग्न होना चाहिये। यह प्रयत्न एवं पुरुषार्थ नव युग के स्वागत की सच्ची अगवानी का महत्वपूर्ण आयोजन माना जायगा। विवेकशील और दूरदर्शी प्रबुद्ध व्यक्तियों को इस महत्वपूर्ण समय का उपयोग इसी दिशा में कदम उठाते हुए करना चाहिये। जो समय रहते अपने को बदल सकेंगे वस्तुतः वे ही शाँति और सन्तोष अनुभव करेंगे।

✍🏻 पं श्रीराम शर्मा आचार्य
📖 अखण्ड ज्योति जुलाई 1967

मंगलवार, 23 नवंबर 2021

भाईचारे का बर्ताव

यदि कोई भंगी हमारे पास भंगी के रूप में आता है, तो छुतही बिमारी की तरह हम उसके स्पर्श से दूर भागते हैं। परन्तु जब उसके सिर पर एक कटोरा पानी डालकर कोई पादरी प्रार्थना के रूप में कुछ गुनगुना देता है और जब उसे पहनने को एक कोट मिल जाता है-- वह कितना ही फटा-पुराना क्यों न हो-- तब चाहे वह किसी कट्टर से कट्टर हिन्दू के कमरे के भीतर पहुँच जाय, उसके लिए कहीं रोक-टोक नहीं, ऐसा कोई नहीं, जो उससे सप्रेम हाथ मिलाकर बैठने के लिए उसे कुर्सी न दे! इससे अधिक विड्म्बना की बात क्या हो सकता है? 

आइए, देखिए तो सही, दक्षिण भारत में पादरी लोग क्या गज़ब कर रहें हैं। ये लोग नीच जाति के लोगों को लाखों की संख्या मे ईसाई बना रहे हैं। ...वहाँ लगभग चौथाई जनसंख्या ईसाई हो गयी है! मैं उन बेचारों को  क्यों दोष दूँ?  हें भगवान, कब एक मनुष्य दूसरे से भाईचारे का बर्ताव करना सीखेगा।


स्वामी विवेकानन्द     
 (वि.स.१/३८५)

👉 भक्तिगाथा (भाग ८७)

प्रभु कृपा से ही मिलता है महापुरुषों का संग

‘‘तब अपनी स्मृतिकथा सुनाकर हमें अनुगृहीत करें।’’ वातावरण में कई स्वरलहरियाँ एक साथ स्पन्दित हुईं। वशिष्ठ ने भी सभी की सहमति को स्वीकार कर कहना प्रारम्भ किया- ‘‘यह कथा महर्षि वाल्मीकि एवं देवर्षि नारद के आध्यात्मिक सम्मिलन से पूर्व की है। उस समय मैं किसी कार्यवश परमपिता ब्रह्मदेव से मिलने के लिए ब्रह्मलोक गया हुआ था। कमलासन पर विराजमान ब्रह्मदेव थोड़ा सा चिन्तित लग रहे थे। पास में ही माता सरस्वती भी विराजमान थी। भगवती सरस्वती के समीप ही मेरे अग्रज भ्राता सनक-सनन्दन आदि खड़े थे जिन्हें माता यदा-कदा स्नेह-वात्सल्य भाव से देख लेती थीं। ब्रह्मदेव की उस सभा में अन्य त्रैलोक्यपूजित महर्षि भी थे। परमपिता मुझे देखकर मेरा अभिवादन स्वीकार करते हुए बोले- तुम बड़े ही शुभ अवसर पर पधारे हो पुत्र! तुम्हारे लिए एक शुभ सूचना है और मेरे लिए एक समस्या है वत्स, जिसका समाधान होना है। मैंने विनीत स्वरों में उनसे कहा, पहले मुझे शुभ सूचना दें भगवन्, फिर यदि मुझे योग्य समझें तो समस्या से भी अवगत कराएँ?

मेरे इस कथन पर ब्रह्मदेव बोले- तो सुनो पुत्र! शुभ सूचना यह है कि तुम जिस कुल के पुरोहित हो, उस कुल में भगवान नारायण शीघ्र ही अवतार लेने वाले हैं। ब्रह्मदेव के इस कथन ने तो मुझे विह्वल कर दिया। खुशी से मेरे नेत्र भीग गए। मैं कुछ बोल न सका, बस अहोभाव से मैंने उन पूर्णपुरूष के प्रति कृतज्ञ भाव से हाथ जोड़ लिए। अब मेरी समस्या सुनो वत्स- थोड़ा रूककर ब्रह्मदेव बोले। अवश्य भगवन्। मैं अपनी प्रसन्नता के अतिरेक में परमपिता ब्रह्मदेव की समस्या वाली बात विस्मृत कर चुका था। उदार ब्रह्मदेव ने मेरी विस्मृति के अपराध को क्षमा करते हुए कहा- मेरी समस्या यह है कि प्रभु के इस अवतार की लीलाकथा कौन कहेगा? इस कार्य के लिए किसे निमित्त बनाया जाय? सृष्टिकर्त्ता होने के कारण यह दायित्व मेरा है।

ब्रह्मदेव की समस्या सचमुच ही विचारणीय थी। मुझे भी तत्काल कुछ सूझ नहीं पड़ा। उस समय मैंने बस सुमतिदायिनी माता सरस्वती को प्रणाम किया और भगवान नारायण का पावन स्मरण किया। प्रभुस्मरण के साथ ही मेरे मन में यह विचार आया कि भगवत्कथा तो वही कह सकता है जो भगवान का कृपापात्र हो। जो प्रभु का स्नेही हो, आत्मीय हो, उनका स्वजन हो। मेरे इस विचार की अभिव्यक्ति पर ब्रह्मदेव बोले- इस समय ऐसा धरा पर कौन है? मैंने इस पर कहा- हे पिताश्री! आपके इस प्रश्न का सही उत्तर यदि कोई दे सकता है तो वे स्वयं नारायण ही हैं। नारायण! नारायण!! नारायण!!! इस नाम का सुमधुर स्वर में तीन बार उच्चारण करके ब्रह्मदेव ने नेत्र मूंद लिए। और वे समाधि के सोपान चढ़ते हुए स्वयं क्षीरशायी पुराण पुरूषोत्तम के सम्मुख खड़े हो गए। थोड़ी देर बाद जब उन्होंने नेत्र खोले तो वह चकित-थकित किन्तु आश्वस्त थे।

क्या हुआ भगवन्? पुत्र! प्रभु ने अपनी लीलाकथा के लिए एक दस्युकर्म में रत-रत्नाकर को चुना है। वह उन्हें अपना सहज स्नेही मानते हैं। प्रभु ने कहा है कि पहले रत्नाकर स्वयं राम नाम की महिमा से रूपान्तरित होकर दस्यु से ऋषि बनेंगे, फिर वह रामकथा कहेंगे। यही नहीं, उन्हें स्वयं महामाया भगवती सीता के धर्मपिता होने का सौभाग्य भी मिलेगा। आश्चर्य! महाआश्चर्य!! परम आश्चर्य!!! परम अविश्वसनीय किन्तु अटल विश्वसनीय। भला पूर्णब्रह्म परमेश्वर की वाणी मिथ्या भी कैसे हो सकती है। उसे होना भी नहीं था। इसके बाद जो घटनाक्रम घटित हुए उसे महर्षि पहले ही सुना चुके हैं। बस मुझे तो केवल इतना सुनाना था कि देवर्षि नारद तो बस भगवत्कृपा के संवाहक बनकर महर्षि वाल्मीकि से मिले थे क्योंकि भगवत्कृपा के बिना तो सन्त-महापुरूषों का सान्निध्य मिलता भी नहीं है। महर्षि तो सदा ही राम के अपने हैं।’’

.... क्रमशः जारी
✍🏻 डॉ. प्रणव पण्ड्या
📖 भक्तिगाथा नारद भक्तिसूत्र का कथा भाष्य पृष्ठ १६३

👉 सर्वोपयोगी सुलभ साधनाएं भाग १

दो शब्द

आध्यात्मिक जीवन की प्रगति के लिए साधना का अवलम्बन एक अनिवार्य तथ्य है। जो लोग समझते हैं कि मन्दिर में जाकर दर्शन कर आने, एक दो माला जप लेने अथवा कुछ पूजा-पाठ कर लेने से वे आध्यात्मिक शक्ति और शांति प्राप्त कर लेंगे वे बड़े भ्रम में हैं। ऐसा करके भले ही वे अपने मन को समझा लें, पर वास्तविक अभ्यास के लिये इससे कुछ उच्च स्तर की साधना ही काम दें सकती है। वह साधना ऐसी होनी चाहिए, जिसमें परमात्मा के प्रति कुछ आन्तरिक झुकाव हो और हमारे व्यावहारिक जीवन पर भी उसका प्रभाव पड़े। अगर पूजा-पाठ और जप-ध्यान करते हुए भी हम निकृष्ट स्वार्थ-साधन में, सांसारिक भोगों के चक्कर में और अन्य लोगों के कष्टों के प्रति उदासीनता और उपेक्षा की प्रवृत्ति में पड़े रहें, तो समझ लेना चाहिए कि हम पूजा-उपासना-साधना की नकल ही कर रहे हैं, सच्ची साधना और उसके कायाकल्प करने वाले परिणामों से अभी दूर ही हैं।

प्रस्तुत पुस्तक इसी उद्देश्य से लिखी गई कि लोग पुराने ढंग की बाह्य पूजा-पद्धति के घटाक्षेप में संशोधन करे उसके समयानुकूल रूप को अपनावें और अपना बहुत-सा समय तथा शक्ति लम्बे-चौड़े विधि-विधानों में लगाने के बजाय उसका एक बड़ा भाग परमार्थ और परोपकार युक्त जीवन जीने में खर्च करें। यदि पाठक पुस्तक में बतलाये मार्ग दर्शन को अपनाकर अपने जीवन क्रम में उपयुक्त तथ्य का समावेश करेंगे तो उनको मालूम होगा कि सामान्य पूजा-पाठ करने पर भी उनके भीतर उस आध्यात्मिक शान्ति और शक्ति का उदय हो रहा है जो सच्चे धर्म तथा ईश्वरोपासना का अन्तिम लक्ष्य है।

.... क्रमशः जारी
✍🏻 पं श्रीराम शर्मा आचार्य
📖 सर्वोपयोगी सुलभ साधनाएं

शुक्रवार, 19 नवंबर 2021

👉 भक्तिगाथा (भाग ८७)

प्रभुकृपा से ही मिलता है महापुरुषों का संग

महर्षि वाल्मीकि के अनुभव में भव बिसर गया और भाव भीगते रहे। ऋषिश्रेष्ठ की अतीत कथा के बारे में यद्यपि सभी को पता था, परन्तु इन पलों में तो जैसे वह सजीव हो उठी। महर्षि के स्वरों के आरोह-अवरोह, उनके उन्नत ललाट पर बनने-मिटने वाली लकीरें और सबसे अधिक उनके सजल नेत्रों से छिटकने वाली प्रभा सभी के अन्तर्हृदय में उतर गयी। उन क्षणों में अन्तःकरण और पर्यावरण दोनों ही तीव्रता से स्पन्दित हो उठे। वातावरण में भक्ति से भीगे भावों का प्रबल ज्वार उभर उठा।

सबके हृदय में यह अनुभूति प्रगाढ़ हुई कि महापुरुषों का संग-जीवन को रूपान्तरित करता है और यह रूपान्तरण भी अजब-अनोखा होता है। लोककिंवदन्ती कहती है कि पारस का स्पर्श कुरूप लोहे को चमकता सुवर्ण बना देता है। परन्तु ऐसा अनोखा पारस भी अपना दीर्घ संग देकर किसी लौहखण्ड को पारस नहीं बना सकता। लौहखण्ड को रहने भी दें तो यह अपने संग से सुवर्ण अथवा हीरक को भी पारस में नहीं बदल सकता परन्तु सन्तों के सान्निध्य में यह आश्चर्य सहजता से घटित होता है।

सन्तों का संग, उनका सान्निध्य, अनगढ़ मनुष्य को भी महामानव, देवमानव ही नहीं, देवों के लिए भी पूज्य सन्त में परिवर्तित कर देता है। महर्षि वाल्मीकि के साथ यही अघटित, घटित हुआ था। आज महर्षि वाल्मीकि, देवर्षि नारद की भांति भावप्रवण भक्त, उदारचेता सन्त थे। समस्त ऋषिगण, देवगण, सिद्ध महापुरुष, तपस्वी उनके लोकोत्तर जप, ज्ञान, भक्ति के साक्षी थे। ब्रह्मर्षि वशिष्ठ एवं ब्रह्मर्षि विश्वामित्र तो उनके समकालीन ही थे। इन तीनों महान विभूतियों ने मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम की लीलाओं को अपनी आँखों से निहारा था। इन्होंने अनगिन पल-क्षण-घड़ियाँ उन पूर्णब्रह्म परमेश्वर के साथ बितायी थीं। भगवान-भक्ति एवं भक्त के सतत सहचर्य को उन्होंने जी-भर जिया था।

आज फिर से हिमवान के आंगन वे सभी स्मृतियाँ पुनः सजीव हो रही थीं। हिमालय के जड़ कहे-समझे जाने वाले शैल-शिखर, सचेतन होकर इस अलौकिकता को निहार रहे थे। शीतल किन्तु सुरभित हवाओं में भी यही स्वर व्याप रहा था। हिमपक्षियों की कलरव ध्वनि में ऋषिश्रेष्ठ वाल्मीकि के अनुभवों के गीत ही गूंज रहे थे। मौन और मुखर भक्ति की अवर्णनीय प्रदीप्ति वहाँ चहुँ ओर प्रकीर्ण हो रही थी। सभी के मुख पर सन्तुष्टि के भाव थे, परन्तु ब्रह्मर्षि वशिष्ठ किंचित अन्तर्लीन थे। देवर्षि ने तनिक विस्मित होते हुए उन्हें देखा, फिर बोले- ‘‘आप किन्हीं विचारों में निमग्न हैं ब्रह्मर्षि?’’ ब्रह्मर्षि ने उत्तर दिया- ‘‘विचारों में ही नहीं, स्मृतियों में भी परन्तु इन स्मृतिकड़ियों के जुड़ने के पहले आप अपने सूत्र की नयी कड़ी जोड़ें।’’

‘‘जो आज्ञा ब्रह्मर्षि!’’- कहते हुए ब्रह्मपुत्र नारद ने अपने अग्रज वशिष्ठ का आदेश शिरोधार्य करते हुए माथा नवाया और कहा-
‘लभ्यतेऽपि तत्कृपयैव’॥ ४०॥

उन भगवान् (श्रीहरि) की कृपा से ही (सन्तों-महापुरूषों का) सङ्ग भी मिलता है। देवर्षि के इस सूत्र को सुनकर ब्रह्मर्षि के होठों पर हल्की सी स्मित प्रकाशित हो उठी। इसे देखकर देवर्षि सहित अन्य ऋषिगण एवं देवगण विस्मित से हो गए। सभी के नयनों में उत्सुकता-जिज्ञासा सघन हो गयी। अन्तर्भावों के पारखी ब्रह्मपुत्र वशिष्ठ ने अपना दायां हाथ उठाते हुए आश्वस्ति स्वर में कहा- ‘‘आप सब विस्मय न करें, दरअसल मेरी स्मृतियों एवं देवर्षि के सूत्र में एक अनोखा सम्बन्ध है।’’

.... क्रमशः जारी
✍🏻 डॉ. प्रणव पण्ड्या
📖 भक्तिगाथा नारद भक्तिसूत्र का कथा भाष्य पृष्ठ १६१

रानी लक्ष्मी बाई


मोरोपंत और भागीरथी की, मणिकर्णिका दुलारी थी।
वाराणसी की वीर छबीली, मनु  दुर्गा अवतारी थी।।   

बाजीराव के राज सभा में, बचपन उनका बीता था।
शास्त्रों की ज्ञाता थीं उनको, प्रिय रामायण गीता था।।
दरबारी बचपन से थी तो, राज काज में दक्ष रहीं ।
प्रजाहित की समझ उसे थी, न्याय हेतु निष्पक्ष रहीं।।
शिवा थे आदर्श मनु के, समर भूमि फुलवारी थी।
वाराणसी की वीर छबीली, मनु दुर्गा अवतारी थी।।   

शस्त्र चलाना बचपन से ही, बड़े  चाव से सीखा था।
भाला बरछा तलवारों से, मनु से न कोई जीता था।।
तीर कमान समशीर सदा, हाथों में शोभा पाते थे।
बड़े बड़े योद्धा भी उनसे, लड़कर हार ही जाते थे।।
दुश्मन तो थर थर कापें थे, जब उनने हुंकारी थी।
वाराणसी की वीर छबीली, मनु दुर्गा अवतारी थी।।   

राव गंगाधर संग फेरे ले, अब झाँसी की रानी थी।
मनु से लक्ष्मी बाई बनी वो, आगे असल कहानी थी।
अंग्रेजों के हड़प नीति ने, झांसी को अवसाद दिया।
किया खजाना जब्त राज्य का, राजकोष बर्बाद किया।।  
झाँसी को रक्षित करने का, संकल्प लिए ये नारी थी।
वाराणसी की वीर छबीली, मनु दुर्गा अवतारी थी।।   

रणचंडी बन कूद पड़ी वह, अंग्रेजों से टकराई थी।
युद्ध भूमि में रण कौशल से, उनको धुल चटाई थी।।
हारी गयी अंग्रेजी सेना, कालपी ग्वालियर भी हारी।
झांसी की रानी काली बन, रिपुओं पर वो थी भारी।।
वीरगति को पायी रानी, वीरांगना अवतारी थी।
वाराणसी की वीर छबीली, मनु दुर्गा अवतारी थी।।   

उमेश यादव

बुधवार, 17 नवंबर 2021

👉 कर्म फल

पुराने समय में एक राजा था। वह अक्सर अपने दरबारियों और मंत्रियों की परीक्षा लेता रहता था। एक दिन राजा ने अपने तीन मंत्रियों को दरबार में बुलाया और तीनो को आदेश दिया कि एक एक थैला लेकर बगीचे में जायें और वहाँ से अच्छे अच्छे फल तोड़ कर लायें। तीनो मंत्री एक एक थैला लेकर अलग अलग बाग़ में गए। बाग़ में जाकर एक मंत्री ने सोचा कि राजा के लिए अच्छे अच्छे फल तोड़ कर ले जाता हूँ ताकि राजा को पसंद आये। उसने चुन चुन कर अच्छे अच्छे फलों को अपने थैले में भर लिया। दूसरे मंत्री ने सोचा “कि राजा को कौनसा फल खाने है?” वो तो फलों को देखेगा भी नहीं। ऐसा सोचकर उसने अच्छे बुरे जो भी फल थे, जल्दी जल्दी इकठ्ठा करके अपना थैला भर लिया। तीसरे मंत्री ने सोचा कि समय क्यों बर्बाद किया जाये, राजा तो मेरा भरा हुआ थैला ही देखेगे। ऐसा सोचकर उसने घास फूस से अपने थैले को भर लिया। अपना अपना थैला लेकर तीनो मंत्री राजा के पास लौटे। राजा ने बिना देखे ही अपने सैनिकों को उन तीनो मंत्रियों को एक महीने के लिए जेल में बंद करने का आदेश दे दिया और कहा कि इन्हे खाने के लिए कुछ नहीं दिया जाये। ये अपने फल खाकर ही अपना गुजारा करेंगे।

अब जेल में तीनो मंत्रियों के पास अपने अपने थैलो के अलावा और कुछ नहीं था। जिस मंत्री ने अच्छे अच्छे फल चुने थे, वो बड़े आराम से फल खाता रहा और उसने बड़ी आसानी से एक महीना फलों के सहारे गुजार दिया। जिस मंत्री ने अच्छे बुरे गले सड़े फल चुने थे वो कुछ दिन तो आराम से अच्छे फल खाता रहा रहा लेकिन उसके बाद सड़े गले फल खाने की वजह से वो बीमार हो गया। उसे बहुत परेशानी उठानी पड़ी और बड़ी मुश्किल से उसका एक महीना गुजरा। लेकिन जिस मंत्री ने घास फूस से अपना थैला भरा था वो कुछ दिनों में ही भूख से मर गया।

दोस्तों ये तो एक कहानी है। लेकिन इस कहानी से हमें बहुत अच्छी सीख मिलती है कि हम जैसा करते हैं, हमें उसका वैसा ही फल मिलता है। ये भी सच है कि हमें अपने कर्मों का फल ज़रूर मिलता है। इस जन्म में नहीं, तो अगले जन्म में हमें अपने कर्मों का फल भोगना ही पड़ता है। एक बहुत अच्छी कहावत हैं कि जो जैसा बोता हैं वो वैसा ही काटता है। अगर हमने बबूल का पेड़ बोया है तो हम आम नहीं खा सकते। हमें सिर्फ कांटे ही मिलेंगे।

मतलब कि अगर हमने कोई गलत काम किया है या किसी को दुःख पहुँचाया है या किसी को धोखा दिया है या किसी के साथ बुरा किया है, तो हम कभी भी खुश नहीं रह सकते। कभी भी सुख से, चैन से नहीं रह सकते। हमेशा किसी ना किसी मुश्किल परेशानी से घिरे रहेंगे।

👉 भक्तिगाथा (भाग ८६)

दुर्लभ है महापुरुषों का संग

देवर्षि के इस सूत्र को सभी ने सुना। परन्तु महर्षि वाल्मीकि तो जैसे इसमें डूब गए। उन्हें याद आने लगे अपने वे पल, जिन्होंने उन्हें भक्त बना दिया था। इन स्मृतियों ने उन्हें थोड़ा विकल किया और पुलकित भी। इस विकलता भरी पुलकन के अहसास से उनकी आँखें भर आयीं। पर वह बोले कुछ नहीं, बस उन्होंने सूर्यदेव की ओर ताका और फिर शून्य में रम से गए। उन्हें इस तरह मौन होते देख ब्रह्मर्षि वशिष्ठ कहने लगे- ‘‘देवर्षि के इस सूत्र की व्याख्या आप करें।’’ वशिष्ठ के इस कथन के उत्तर में उन्होंने देवर्षि की ओर देखा। महर्षि वाल्मीकि को इस तरह अपनी ओर देखते हुए देखकर देवर्षि ने भी आग्रह किया- ‘‘अवश्य ऋषिश्रेष्ठ! इस सूत्र की व्याख्या आप करें। आपके मुख से इसकी व्याख्या सुनकर हम सभी अनुग्रहीत होंगे।’’

देवर्षि की यह बात सुनकर महर्षि वाल्मीकि मुस्कराए और कहने लगे- ‘‘अनुग्रहीत तो मैं हूँ देवर्षि। आपके संग ने, आपकी कृपा ने मुझे अनुग्रहीत किया। आज का यह महर्षि वाल्मीकि कभी दस्यु रत्नाकर हुआ करता था। इस अपकर्म को करते हुए जीवन के कितने वर्ष गुजर गए। तभी अचानक भगवान की अहैतुकी कृपा मुझ पर हुई और देवर्षि मिले। परन्तु मैं हतभाग्य इन्हें पहचान न सका। इनकी करूणा के उत्तर में मैंने इन्हें डराया, धमकाया, यहाँ तक कि एक वृक्ष से बांध दिया। परन्तु देवर्षि को तनिक भी क्रोध नहीं आया। वे तो बस मुस्कराते रहे, उनके नेत्रों से करूणा बरसती रही। इन्होंने तो बस इतना कहा, तुम यह सब क्यों करते हो? मैंने कहा- अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए। तब उस समय देवर्षि ने मुझसे कहा था- क्या तुम्हारे परिवार के स्वजन तुम्हारे इस कर्मफल के भी भागीदार होंगे? मैंने सहज ही कह दिया था- अवश्य।

लेकिन परमज्ञानी देवर्षि ने मुझसे कहा- ऐसे नहीं, तुम उन लोगों से पूछकर मुझे अपना उत्तर दो। देवर्षि को एक पेड़ से बांधकर मैं उनसे उत्तर पूछने गया। उनके जवाब पर मुझे हैरत और हैरानी हुई। क्योंकि सभी लोगों ने मुझे एक स्वर से मना करते हुए कहा- अपने कर्मफल का भोग तुम्हें स्वयं भोगना पड़ेगा। तुम्हारे कर्म को भला हम सब क्यों भोगेंगे? उनके इस उत्तर ने मुझे हैरानी में डाल दिया। मैं भागा-भागा देवर्षि की शरण में आया। उनके बन्धन खोले-क्षमा मांगी, और कहा- हे भगवान! आप मुझे मार्ग बतायें।

देवर्षि ने मुझे ‘राम’ नाम जपने का आदेश दिया परन्तु मैं अभागा, मुझे राम कहना ही न आया। पूर्व दस्युकर्म ने मुझे ‘मरा’ कहना अवश्य सिखाया था। देवर्षि ने कहा- कोई बात नहीं तुम यही जपो। देवर्षि के आदेश से मैंने ‘मरा’ का जप प्रारम्भ किया। मर्यादापुरुषोत्तम का यह ‘उल्टा नाम’ मेरे लिए अमोघ मन्त्र बन गया। ‘मरा’ कब ‘राम’ में परिवर्तित हुआ पता ही न चला। मैंने जप तो प्रारम्भ कर दिया, परन्तु पिछले कर्म भला कैसे पीछा छोड़ते? लोकनिन्दा, अपमान, तिरस्कार सभी कुछ चलता रहा। मेरे द्वारा दी गयी पीड़ा-यातनाएँ उलट कर मेरे पास आती रहीं परन्तु राम का नाम मेरी रक्षा करता रहा।

इस क्रम में सालों-साल बीत गए। भूख-प्यास, सर्दी-गर्मी सभी से बेखबर मैं बस राम-राम जपता रहा। कितनी बार कितने ही तरह की शारीरिक-मानसिक यातनाएँ मुझे मिलीं, मेरा मन घबराया, टूटा-बिखरा। हताशा-निराशा के बवण्डर आए, परन्तु कृपालु देवर्षि हर बार मुझे धीरज बंधाते रहे। उन्होंने मुझे बताया तुम धीरज खोए बिना बस प्रभु को पुकारते रहो। तुम्हारे जीवन का समस्त अंधकार प्रभु की कृपा के सामने तुच्छ है। देवर्षि की वाणी मेरा सदा सम्बल बनी रही। समय बीतता गया। साथ ही चंचल मन की लहरें थमती गयीं। अन्तः का सघन अन्धकार घटना प्रारम्भ हुआ। प्रकाश की क्षीण किरणें चमकीं। परिवर्तन का क्रम आरम्भ हुआ। राम रटन, भक्ति भजन बन गयी और एक दिन मेरी भावनाएँ-काव्य की पंक्तियाँ बन गयीं। मेरे स्वयं के इस परिवर्तन ने मुझे बता दिया, कि सचमुच ही महापुरुषों का संग दुर्लभ, अगम्य एवं अमोघ होता है।’’

.... क्रमशः जारी
✍🏻 डॉ. प्रणव पण्ड्या
📖 भक्तिगाथा नारद भक्तिसूत्र का कथा भाष्य पृष्ठ १५९

सोमवार, 15 नवंबर 2021

👉 जीवन साधना के त्रिविध पंचशील (अन्तिम भाग)

समाज निर्माणः-
    
(१) हममें से हर व्यक्ति अपने को समाज का एक अविच्छिन्न अंग मानें। अपने को उसके साथ अविभाज्य घटक मानें। सामूहिक उत्थान और पतन पर विश्वास करें। एक नाव में बैठे लोग जिस तरह एक साथ डूबते या पार होते हैं, वैसी ही मान्यता अपनी रहे। स्वार्थ और परमार्थ को परस्पर गूँथ दें। परमार्थ को स्वार्थ समझें और स्वार्थ सिद्धि की बात कभी ध्यान में आये तो वह संकीर्ण नहीं उदात्त एवं व्यापक हो। मिल जुलकर काम करने और मिल बाँटकर खाने की आदत डाली जाय।
    
(२) मनुष्यों के बीच सज्जनता, सद्भावना एवं उदार सहयोग की परम्परा चले। दान विपत्ति एवं पिछड़ेपन से ग्रस्त लोगों को पैरों पर खड़े होने तक के लिए दिया जाय। इसके अतिरिक्त उसका सतत प्रवाह सत्प्रवृत्ति सम्वर्धन के लिए ही नियोजित हो। साधारणतया मुफ्त में खाना और खिलाना अनैतिक समझा जाय। इसमें पारिवारिक या सामाजिक प्रीति भोजों का जहाँ औचित्य हो, वहाँ अपवाद रूप से छूट रहे। भिक्षा व्यवसाय पनपने न दिया जाय। दहेज, मृतक भोज, सदावर्त धर्मशाला आदि ऐसे दान जो मात्र प्रसन्न करने भर के लिये दिये जाते हैं और उस उदारता के लाभ समर्थ लोग उठाते हैं, अनुपयुक्त माने और रोके जायें। साथ ही हर क्षेत्र का पिछड़ापन दूर करने के लिए उदार श्रमदान और धनदान को अधिकाधिक प्रोत्साहित किया जाय।
    
(३) किसी मान्यता या प्रचलन को शाश्वत या सत्य न माना जाय, उन्हें परिस्थितियों के कारण बना समझा जाय। उनमें जितना औचित्य, न्याय और विवेक जुड़ा हो उतना ग्राह्य और जो अनुपयुक्त होते हुए भी परम्परा के नाम पर गले बंधा हो, उसे उतार फेंका जाय। समय- समय पर इस क्षेत्र का पर्यवेक्षण होते रहना चाहिये और जो असामयिक, अनुपयोगी हो उसे बदल देना चाहिये। इस दृष्टि से लिंग भेद, जाति भेद के नाम पर चलने वाली विषमता सर्वथा अग्राह्य समझी जाय।
    
(४) सहकारिता का प्रचलन हर क्षेत्र में किया जाय। अलग- अलग पड़ने की अपेक्षा सम्मिलित प्रयत्नों और संस्थानों को महत्त्व दिया जाय। संयुक्त परिवार से लेकर संयुक्त राष्ट्र, संयुक्त विश्व को लक्ष्य बनाकर चला जाय। विश्व परिवार का आदर्श कार्यान्वित करने का ठीक समय यही है। सभी प्रकार के विलगावों को निरस्त किया जाय। व्यक्ति की सुविधा की तुलना में समाज व्यवस्था को वरिष्ठता मिले। प्रशंसा ऐसे ही प्रयत्नों की हो जिन्हें सर्वोपयोगी कहा जाय। व्यक्तिगत समृद्धि, प्रगति एवं विशिष्टता को श्रेय न मिले। उसे कौतूहल मात्र समझा जाय।
    
(५) अवांछनीय मूढ़ मान्यताओं और कुरीतियों को छूत की बीमारी समझा जाय। वे जिस पर सवार होती है उसे तो मारती ही हैं, अन्यान्य लोगों को भी चपेट में लेती और वातावरण बिगाड़ती हैं। इसलिए उनका असहयोग, विरोध करने की मुद्रा रखी जाय और जहाँ सम्भव हो उनके साथ समर्थ संघर्ष भी किया जाय। समाज के किसी अंग पर हुआ अनीति का हमला समूचे समाज के साथ बरती गई दुष्टता माना जाय और उसे निरस्त करने के लिए जो मीठे- कड़ुवे उपाय हो सकते हों, उन्हें अपनाया जाय। अपने ऊपर बीतेगी तब देखेंगे, इसकी प्रतीक्षा करने की अपेक्षा कहीं भी हुए अनीति के आक्रमण को अपने ऊपर हमला माना जाय और प्रतिकार के लिए दूरदर्शितापूर्ण रणनीति अपनायी जाय।
   
व्यक्तिगत परिवार और समाज क्षेत्र के उपरोक्त पाँच- पाँच सूत्रों को उन- उन क्षेत्रों के पंचशील माना जाय और उन्हें कार्यान्वित करने के लिए जो भी अवसर मिले उन्हें हाथ से जाने न दिया जाय।

आवश्यक नहीं कि इस सभी का तत्काल एक साथ उपयोग करना आरम्भ कर दिया जाय। उनमें से जितने जब जिस प्रकार कार्यान्वित किये जाने सम्भव हों, तब उन्हें काम में लाने का अवसर भी हाथ से न जाने दिया जाय। किन्तु इतना काम तो तत्काल आरम्भ कर दिया जाये कि उन्हें सिद्धान्त रूप से पूरी तरह स्वीकार कर लिया जाये। आदर्शवादी महानता से गौरवान्वित होने वाले जीवन इन्हीं सिद्धान्तों के आधार पर जिये जाते हैं। अनुकरणीय प्रयास करने के लिए जिन्होंने भी श्रेय पाया है, उनने त्रिविधि पंचशीलों में से किन्हीं सूत्रों को अपनाया और अन्यान्यों द्वारा अपनाये जाने का वातावरण बनाया है।

.....समाप्त
✍🏻 पं श्रीराम शर्मा आचार्य
(गुरुदेव के बिना पानी पिए लिखे हुए फोल्डर-पत्रक से)

👉 भक्तिगाथा (भाग ८५)

दुर्लभ है महापुरुषों का संग

महर्षि अंगिरा की वाक्य वीथियों में गुजरते हुए सभी के अन्तर्मन भक्तिसुधा में निमज्जित होते रहे। उनके विचारों में यह सतत स्पन्दित होता रहा कि भक्ति से न केवल भावनाएँ परिशोधित होती हैं, बल्कि सम्पूर्ण जीवन रूपान्तरित होता है। दस्यु दुर्दम्य हो या फिर कोई और, जिसके भी हृदय में भक्ति का अंकुरण हुआ, वहाँ रूपान्तरण के पुष्प खिले बिना नहीं रहते। इन विचार स्पन्दनों ने पहले से ही सुरभित एवं सुवासित हिमवान के आंगन को और भी सुरभित एवं सुवासित कर दिया। वहाँ एक मीठी सी सुगन्ध बिखर गयी जिसे हिमालय के श्वेत शिखर अपने में समेट लेने के लिए प्रयत्नशील हो गए। हिमालय का यह दिव्य क्षेत्र परम पावन एवं अति अलौकिक था और आज भी है। यह वह अतिगुह्य क्षेत्र है, जो स्वः महः जनः तपः आदि ऊर्ध्व लोकों को धरती से जोड़ता है। इसकी विशेषताएँ अनूठी एवं अनोखी हैं। यह सम्पूर्ण क्षेत्र सदा ही एक शक्तिशाली आध्यात्मिक चुम्बकत्व से आच्छादित रहता है। यही वजह है कि सामान्य जन यहाँ पहुँचकर भी नहीं पहुँच पाते हैं। उनकी दृष्टि इसे देखने एवं पहचानने में सदा असमर्थ रहती है।

यहीं इसी दिव्य भूमि में ऋषियों एवं देवों का भक्तिसमागम पिछले काफी समय से चल रहा था। अब तो इसकी चर्चा सुदूर लोकों में भी होने लगी थी। देव, गन्धर्व, सिद्ध, विद्याधर, जनः एवं तपः लोकों के महर्षि भी यहाँ आने के लिए हमेशा उत्सुक रहते थे क्योंकि उन्हें यह ज्ञात था कि केवल भक्ति से ही मनुष्य को सम्पूर्ण शान्ति एवं परमतृप्ति मिलती है। आज भी यहाँ पर एक परम दुर्लभ विभूति के आने के संकेत मिल रहे थे। प्रातः उदीयमान सूर्य की अरूण किरणें उनके स्वागत में सुवर्ण वर्षा करने लगी थीं। वह देवों के लिए भी पूज्य थे। भक्तजन तो उन्हें अपना आदर्श मानते ही थे। उनका कठोर तप त्रिलोकविख्यात था। उन्होंने विश्व का सर्वप्रथम काव्य ग्रन्थ लिखा था। आदिकवि महर्षि वाल्मीकि ने ऊर्ध्वलोकों से अपने आगमन के संकेत दिए थे। उनके आगमन के इन संकेतों ने सभी को एक अपूर्व प्रसन्नता एवं पुलकन दी थी। ब्रह्मर्षि वसिष्ठ एवं ब्रह्मर्षि विश्वामित्र तो विशेष आनन्दित थे, क्योंकि इनकी अनेकों यादें उन महान् विभूति से जुड़ी थीं।

इन यादों के सघन होते ही सभी ने एक स्वर्णिम प्रकाशपुञ्ज को गगन से धरा पर अवतीर्ण होते देखा। इसकी प्रभा एवं प्रकाश के सामने उदय हो रहे भगवान भुवनभास्कर का प्रकाश मद्धम पड़ गया था। इस अनोखे प्रकाशपुञ्ज से बिखर रही प्रकाश रश्मियों के साथ एक दिव्य सुगन्ध चहुं ओर बिखर रही थी जिससे सभी के तन, मन एवं आत्मा स्नात हो रहे थे। थोड़े ही पलों में यह प्रकाशपुञ्ज मानवाकृति में बदल गया। उन गौरवर्णीय दिव्य महापुरुष की छवि अवर्णनीय थी। माथे पर श्वेत केशराशि लहरा रही थी। मुख पर श्वेत दाढ़ी-मूंछें उनकी आभा को गौरवपूर्ण बना रहे थे। उनके नेत्र तो जैसे तरल प्रकाश का स्रोत थे। उनकी सम्पूर्ण देहयष्टि एक अनोखे प्रकाश वलय से घिरी थी।

उन्हें सबसे पहले ब्रह्मर्षि वशिष्ठ एवं ब्रह्मर्षि विश्वामित्र ने पहचाना। देवर्षि का उन्होंने स्वयं अभिवादन किया। प्रत्युत्तर में देवर्षि ने उन्हें हृदय से लगा लिया। महर्षियों में भी सर्वपूज्य वाल्मीकि को अपने बीच पाकर सभी आह्लादित थे। काफी समय तक सभी इस दैवी आनन्द में डूबे रहे। फिर परम तेजस्वी विश्वामित्र ने देवर्षि की ओर साभिप्राय देखा। उनकी दृष्टि के मर्म को  देवर्षि नारद ने तुरन्त पहचान लिया और मुस्कराते हुए उन्होंने सभी की ओर देखा। सभी की आँखों में नवीन भक्तिसूत्र के श्रवण की आतुर जिज्ञासा दिखी। देवर्षि ने भी बिना देर लगाए अपना नवीन भक्तिसूत्र उच्चारित किया-

‘महत्सङ्गस्तु दुर्लभोऽगम्योऽमोघश्च’॥३९॥
महापुरुषों का सङ्ग दुर्लभ, अगम्य और अमोघ है।

.... क्रमशः जारी
✍🏻 डॉ. प्रणव पण्ड्या
📖 भक्तिगाथा नारद भक्तिसूत्र का कथा भाष्य पृष्ठ १५७

शनिवार, 13 नवंबर 2021

👉 जीवन साधना के त्रिविध पंचशील (भाग ३)

परिवार निर्माणः-
    
(१) परिवार को अपनी विशिष्टताओं को उभारने का अभ्यास करने एवं परिपुष्ट बनाने की प्रयोगशाला, पाठशाला समझे। इस उद्यान में सत्प्रवृत्तियों के पौधे लगाये। हर सदस्य को स्वावलम्बी सुसंस्कारी एवं समाजनिष्ठ बनाने का भरसक प्रयत्न करें। इसके लिए सर्वप्रथम ढालने वाले साँचे की तरह आदर्शवान बने ताकि स्वयं कथनी और करनी की एकता का प्रभाव पड़े। स्मरण रहे साँचे के अनुसार ही खिलौने ढलते हैं। पारिवारिक उत्तरदायित्व में सर्वप्रथम है संचालक का आदर्शवादी ढाँचे में ढलना। दूसरा है माली की तरह हरे पौधे का शालीनता के क्षेत्र में विकसित करना।
    
(२) परिवार की संख्या न बढ़ायें। अधिक बच्चे उत्पन्न न करें। इसमें जननी का स्वास्थ्य, सन्तान का भविष्य, गृहपति का अर्थ सन्तुलन एवं समाज में दारिद्र्य, असन्तोष बढ़ता है। दूसरों के बच्चे को अपना मानकर उनके परिपालन से वात्सल्य कहीं अधिक अच्छी तरह निभ सकता है। लड़की- लड़कों में भेद न करें। पिछली पीढ़ी और वर्तमान के साथियों के प्रति कर्तृत्व पालन तभी हो सकता है, जब नये प्रजनन को रोकें। अन्यथा प्यार और धन प्रस्तुत परिजनों का ऋण चुकाने में लगने की अपेक्षा उनके लिए बहने लगेगा, जिनका अभी अस्तित्व तक नहीं है। इसलिए उस सम्बन्ध में संयम बरतें और कड़ाई रखें।
    
(३) संयम और सज्जनता एक तथ्य के दो नाम हैं। परिवार में ऐसी परम्पराएँ प्रचलित करें जिसमें इन्द्रिय संयम, समय संयम, अर्थ संयम और विचार संयम का अभ्यास आरम्भ से ही करते रहने का अवसर मिले। घर में चटोरेपन का माहौल न बनाया जाये। भोजन सात्विक बने और नियत समय पर सीमित मात्रा में खाने का ही अभ्यास बने। कामुकता को उत्तेजना न मिले, सभी की दिनचर्या निर्धारित रहे। समय के साथ काम और मनोयोग जुड़ा रहे। किसी को आलस्य- प्रमाद की आदत न पड़ने दी जाय और न कोई आवारागर्दी अपनाये व कुसंग में फिरे। फैशन और जेवर को बचकाना, उपहासास्पद माना जाय, केश विन्यास और अश्लील, उत्तेजक पोशाक कोई न पहनें और न जेवर आभूषणों से लदें। नाक, कान छेदने और उनके चित्र- विचित्र लटकन लटकाने का पिछड़ेपन का प्रतीत फैशन कोई महिला न अपनाये।
    
(४) पारिवारिक पंचशीलों में श्रमशीलता, मितव्ययिता, सुव्यवस्था, शालीन शिष्टता और उदार सहकारिता की गणना की गयी है। इन पाँच गुणों को हर सदस्य के स्वभाव में कैसे सम्मिलित किया जाय। इसके लिए उपदेश देने से काम नहीं चलता, ऐसे व्यावहारिक कार्यक्रम बनाने पड़ते हैं, जिन्हें करते रहने से वे सिद्धान्त व्यवहार में उतरें।
    
(५) उत्तराधिकार का लालच किसी के मस्तिष्क में नहीं जमने देना चाहिए, वरन् हर सदस्य के मन मे यह सिद्धान्त जमना चाहिए कि परिवार की संयुक्त सम्पदा में उसका भरण- पोषण, शिक्षण एवं स्वावलम्बन सम्भव हुआ है। इस ऋण को चुकाने में ही ईमानदारी है। बड़ों की सेवा और छोटों की सहायता के रूप में यह ऋण हर वयस्क स्वावलम्बी को चुकाना चाहिए। कमाऊ होते ही आमदनी जेब में रखना और पत्नी को लेकर मनमाना खर्च करने के लिए अलग हो जाना प्रत्यक्ष बेईमानी है। उत्तराधिकार का कानून मात्र कमाने में असमर्थों के लिए लागू होना चाहिए, न कि स्वावलम्बियों की मुफ्त की कमाई लूट लेने के लिए। अध्यात्मवाद और साम्यवाद दोनों ही इस मत के हैं कि पूर्वजों की छोड़ी कमाई को असमर्थ आश्रित ही तब तक उपयोग करें जब तक कि वे स्वावलम्बी नहीं बन जाते।

.... क्रमशः जारी
✍🏻 पं श्रीराम शर्मा आचार्य
(गुरुदेव के बिना पानी पिए लिखे हुए फोल्डर-पत्रक से)

👉 परमात्मा की समीपता

परमात्मा के जितने ही समीप हम पहुँचते हैं उतनी ही श्रेष्ठताएँ हमारे अन्तःकरण में उपजती तथा बढ़ती हैं। उसी अनुपात से आन्तरिक शान्ति की भी उपलब...