कोई पोस्ट नहीं. सभी पोस्ट दिखाएं
कोई पोस्ट नहीं. सभी पोस्ट दिखाएं

👉 कुँठित भावनाओं को निकाल दीजिए (भाग २)

सेक्तमाहना की अतृप्ति से नैराश्य और उदासीनता उत्पन्न हो जाती है। कुछ स्त्री पुरुष तो अर्द्धविक्षिप्त से हो जाते हैं, कुछ का विकास रुक जा...