बुधवार, 25 जनवरी 2017

👉 आप अपने आपको पहचान लीजिये (भाग 7)

👉 युग ऋषि की अमृतवाणी

🔴 तुम भी जिस लायक हो जो तुम्हारी वास्तविक योग्यता है जन्म- जन्मान्तरों की संग्रह की हुई वह बड़ी योग्यता है। हमारे पास भी जन्म जन्मान्तरों की संग्रह की हुई योग्यता थी इसीलिये हमारे गुरु ने स्वयं हमारे घर आकर के कहा था कि भाई जिस काम में तेरे घर वाले लगाना चाहते हैं उस काम में लगना तेरे लिये ठीक नहीं है। हम जो कहते है वही काम कर। हमने वही काम किया हमने उनका कहना न माना होता घरवालों का कहना माना होता तो तो फिर अपने आपका ज्ञान ही नहीं होता। यह नहीं मालूम होता कि पूर्व जन्मों की कोई संचित संपदा कोई है क्या हमारे पास। उन्होंने दिखाया तो मालूम पड़ा कि हमारा पूर्व जन्मों का संकलन है और पूर्व जन्मों की कोई संपदा है हमारे पास। हम कोई सामर्थ्यवान व्यक्ति हैं और सामर्थ्यवान व्यक्ति हैं तो कोई बड़े काम कर सकते हैं और बड़े काम करने चाहिये।

🔵 आपसे भी मैं ठीक वही बात कह रहा हूँ। जो पुरानी घटना मेरे साथ बीती है उन्हीं बातों को मैं कह रहा हूँ और कोई नई बात नहीं कह रहा हूँ। मैं आपसे यह कह रहा हूँ कि यदि आप हमारा कहना माने तो आप नफे में रहेंगे जैसे कि हम नफे में रहे। जिस तरीके से पहले जन्मों के संस्कार हमारे पास जमा थे और उन संस्कारों की वजह से इस जन्म में सफलताओं पर सफलतायें मिलती चली गयी। आप भी यदि कदम उठायेंगे इसी राह पर तो आपको भी सफलता पर सफलता मिलती जायेगी इसी राह पर आपको यह नहीं कहना पड़ेगा कि हम घाटे में रहे और नुकसान में रहे आप बड़े सामर्थ्यवान है लेकिन सामर्थ्यवान होते हुए भी यह बड़े अचम्भे की बात है कि आप अपने आपको पहचान नहीं पा रहे हैं।

🔴 सोया हुआ आदमी होता है तो उसको नींद आ जाती है। नींद में पड़ा हुआ आदमी मरे हुए के समान हो जाता है चाहे गाली दो उसको, न उसको अपने शरीर का पता है, न कपड़ों का पता है, नंगा पड़ा है कि उघारा पड़ा है। घर में चोरी हो रही है क्या हो रहा है सोया हुआ है तो मालूम ही नहीं है आप सो गये मालूम पड़ते हैं इसलिये मुझे आपको जगाना है। जगाने के लिये मैं प्रार्थना करता हूँ आपसे कि आप अपने आपको जगा लीजिये सोयी हुई स्थिति में पड़े रहेंगे तो बड़ी खराब बात हो जायेगी आप खुमारी में पड़े रहेंगे तो सड़क में पड़े रहेंगे नाली में पड़े रहेंगे, नाक रगड़ते रहेंगे और आप शराबी कहलायेंगे और बस थोड़ी देर के लिये मजा तो आ जायेगा लेकिन फिर आप नुकसान में जायेंगे।

🌹 क्रमशः जारी
🌹 पं श्रीराम शर्मा आचार्य
http://hindi.awgp.org/gayatri/AWGP_Offers/Literature_Life_Transforming/lectures_gurudev/31.2

👉 आदेश की विचित्र पालना, एक उलझन मे एक सुलझन मे

🔷 एक बार एक महात्मा जी के दरबार मे एक राहगीर आया और उसने पुछा की हॆ महात्मन सद्गुरु की आज्ञा का पालन कैसे करना चाहिये? 🔶 महात्मा जी ने...