मंगलवार, 4 अप्रैल 2017

👉 सन्त, सुधारक और शहीद

🔵 अवतार केवल उन्हीं को नहीं कहते जिनके बारे में जन प्रचलित मान्यताएँ हैं, मिथक या शास्त्र जिनका वर्णन करते आए हैं। परब्रह्म की अवतार चेतना मानवी सत्ता से भी यह कार्य करा लेती है, विशेषतः उनसे जिनमें दैवी तत्त्वों का चिरसंचित बाहुल्य पाया जाता है। ऐसे अवतार तीन रूपों में दृष्टिगोचर होते हैं- संत, सुधारक और शहीद। ये तीन अवतार चेतना के ऐसे स्वरूप हैं, जिन्हें देखकर उनकी सृजन प्रयोजनों में नियोजित तत्परता के माध्यम से मानवी काया में परमात्मा की चेतना का दिग्दर्शन किया जा सकता है।

🔴 ‘सन्त’ उन्हें कहते हैं जो अपने उपदेशों से नहीं, अपने चरित्र एवं व्यक्तित्त्व के आधार पर सुसंस्कृत जीवन का शिक्षण देते हैं। जो अपनी निज की वासना पर नियन्त्रण कर अपने आपको सुधार कर मानव जीवन के एक-एक पल का सदुपयोग करने का शिक्षण दे, वह सन्त की परिभाषा में आता है। सन्त ही मनःस्थिति को नियन्त्रित रखने-विचारों की अनगढ़ता को ठीक कर आदर्शवादी उत्कृष्टता को जीवन में उतारे जाने की प्रयोगशाला स्वयं को बनाकर अपना उदाहरण सबके समक्ष प्रस्तुत करते हैं। वे जन-मानस को यह साहस प्रदान करते हैं कि मनःस्थिति ऊँची रहने पर विषम परिस्थितियों में भी मानवी गरिमा अक्षुण्ण रखी जा सकती है।

🔵 अवतार का दूसरा स्तर ‘सुधारक’ का है, जो न केवल वासना पर अपितु तृष्णा पर भी नियन्त्रण कर आत्म निर्माण के साथ दूसरों को बदलने योग्य पराक्रम करने की सामर्थ्य रखते हैं। आत्म-सुधार अपने हाथ की बात है, इसलिए सन्त का कार्य-क्षेत्र सीमित और सरल है। किन्तु सुधारक को अन्यों को बदलना पड़ता है। सन्त का ‘ब्राह्मण’ होना पर्याप्त है; किन्तु सुधारक को ‘साधु’ भी बनना होता है जो एक हाथ में शास्त्र और दूसरें में शस्त्र रखता है।

🔴 अधिक प्राणशक्ति के लिए तृष्णा-लिप्सा, और अधिक पाने की महत्वाकांक्षा पर नियन्त्रण आवश्यक है। चरित्र अधिक ऊँचा, साहस अधिक प्रखर और पुरुषार्थ अधिक प्रबल हो, तभी दूसरों को अभ्यस्त अनाचार से विरत रहने और सदाशयता अपनाने के लिए सहमत एवं विवश करना सम्भव है। सुधारक दो मोर्चों को सम्भाल कर व्यापक परिवर्तन की पृष्ठभूमि बनाने वाली अवतारी सत्ता के अन्तर्गत आते हैं।

🔵 अवतार का तीसरा स्तर ‘शहीद’ का है। शहीद का अर्थ है जो वासना, तृष्णा से तो मुक्त है ही अहंता से भी मुक्ति पा चुका है। ‘स्व’ का ‘‘पर’’ के लिए समग्र समर्पण। समर्पण, शरणागति, परमसत्ता के विराट् उद्यान को सुन्दर बनाने के लिए अपने आपको विसर्जित कर देना-यह सच्ची शहादत है। संकीर्ण स्वार्थपरता का अन्त करके परमार्थ को ही अपनी महत्त्वाकांक्षाओं का केन्द्र बना लेना, उसी में रस लेना, उसी चिन्तन में सतत तन्मय रहना ही शहीद की वास्तविक परिभाषा है। जिसने अहं को अपनी क्षुद्र महत्त्वाकांक्षाओं को गला दिया, वही सच्चा शहीद है। जिन्हें अवतार के प्रत्यक्ष दर्शन करने हों, वे ऊपर बताए तीन वर्गों का विस्तार एवं स्तर उभरता देखकर युगपरिवर्तन की प्रक्रिया का अनुमान लगा सकते हैं।

🌹 डॉ प्रणव पंड्या
🌹 जीवन पथ के प्रदीप

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

👉 अपने ब्राह्मण एवं संत को जिन्दा कीजिए (भाग 2)

🔴 दूसरा वाला प्रयोग हमने किया- साधु का। जिसका नाम तपस्वी है। हमने अपने सारे छिद्रों को बन्द कर दिया। यह दूसरा कदम है। काँटे पर चलने वाल...