शुक्रवार, 23 अप्रैल 2021

👉 तौर बदलना होगा


सुनो साथियों, समय कठिन है, संभल-संभल कर चलना होगा।
घर में रहें सुरक्षित प्रिय जन, अब तो तौर बदलना होगा।।

है विनाश की काली छाया, दुनिया में दहशत फैलाया।
यह अदृश्य होकर है लड़ता, छुपा हुआ दुश्मन है आया।।
जीवन पर संकट आया है, हर क्षण हमें संभलना होगा।
घर में रहें सुरक्षित प्रियजन, अब तो तौर बदलना होगा।।

शत्रु है यह बड़ा सयाना, तनिक नहीं इससे घबराना।
सावधान होकर  है लड़ना, हम सबको है  इसे हराना।।
श्वास-प्राण से युद्ध है इसका, मास्क लगाकर चलना होगा।
घर में रहें सुरक्षित प्रियजन, अब तो तौर बदलना होगा।।

प्राणायाम है बहुत जरुरी, नींद करो अपनी सब पूरी।
सट कर मत चल मेरे भाई, दो गज दुरी बहुत जरुरी।।
इधर उधर न छूना कोई, हाथ समय पर धोना होगा।   
घर में रहें सुरक्षित प्रियजन,अब तो तौर बदलना होगा।।

गरम गुनगुना पानी पीओ, सर्दी खांसी रहित हो जिओ।
हल्दी का दूध सबसे उत्तम, रोज रात में कप भर पीओ।।    
प्रण लो भाई बिना काम के, घर से नहीं निकलना होगा।
घर में रहें सुरक्षित प्रियजन, अब तो तौर बदलना होगा।।

हंसी ख़ुशी जीवन है जीना, सदा संतुलित भोजन लेना।
डॉक्टर के सलाह लेकर ही, कोई भी ओषधि  है लेना।।
जीत हमारी सदा सुनिश्चित, सावधान हो चलना होगा।
घर में रहें सुरक्षित प्रियजन, अब तो तौर बदलना होगा।।

उमेश यादव

कोई टिप्पणी नहीं:

👉 गुरु कौन

बहुत समय पहले की बात है, किसी नगर में एक बेहद प्रभावशाली महंत रहते थे। उन के पास शिक्षा लेने हेतु दूर दूर से शिष्य आते थे। एक दिन एक शिष्य न...