शुक्रवार, 21 जुलाई 2017

👉 प्रेरणादायक प्रसंग 21 July 2017


1 टिप्पणी:

  1. विमल कुमार शुक्‍ल21 जुलाई 2017 को 3:57 pm

    इसीलिए परमपूज्य गुरुदेव ने अध्‍यात्‍म और विज्ञान के साथ जीवन जीने की प्रेरणा दी और आध्‍यात्मिक जीवन के लिए परमावश्‍यक है 'अन्‍तर्मन का परिष्‍कार', जो कि गायत्री-साधना से ही सम्‍भव है। इसीलिए परमपूज्‍य ने लिंग-जाति-सम्‍प्रदाय के भेदभाव के बगैर सबको गायत्री-मंत्र का अधिकारी बनाया और आज लाखों-करोड़ों लोग इस आत्‍म-प्रयोग से अपना जीवन समुन्‍नत करने में सफल हुए हैं।

    उत्तर देंहटाएं

👉 आत्मचिंतन के क्षण 23 Oct 2017

🔵 धनवान् वही उत्तम है जो कृपण न होकर दानी हो, उदार हो, जिसके द्वारा धर्मपूर्वक न्याययुक्त व्यापार हो, जिसके द्वार पर अतिथि का समुचित सत...