शनिवार, 19 नवंबर 2016

'मणिकर्णिका' झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई

अंग्रेजी शोषण और दलन के खिलाफ तलवार उठा कर युद्ध के मैदान में उतर आने वाली वीरांगना, जिसने कहा था कि जब तक मेरे रक्त का एक बूँद भी मेरे शरीर में बाक़ी है, मैं यह किला अंग्रेजी फौज़ के हाथों में नहीं जाने दूँगी, उस 'मणिकर्णिका' यानि झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई को उनके जन्मदिवस पर आकाश भर प्रणाम!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

👉 अपने ब्राह्मण एवं संत को जिन्दा कीजिए (भाग 2)

🔴 दूसरा वाला प्रयोग हमने किया- साधु का। जिसका नाम तपस्वी है। हमने अपने सारे छिद्रों को बन्द कर दिया। यह दूसरा कदम है। काँटे पर चलने वाल...