शनिवार, 3 सितंबर 2016

आज का सद्चिंतन 4 Sep 2016




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

👉 परिस्थितियों के अनुकूल बनिये। (भाग 1)

🔵 हमारे एक मित्र की ऐसी आदत है कि जब तक सब कुछ चीजें यथास्थान न हो, सफाई, शान्ति, और उचित वातावरण न हो, तब तक वे कुछ भी नहीं कर पाते। घ...